Tuesday, December 9, 2008

आज.......

कहना बहुत कुछ है, पर शब्दों की कमी सी है आज.....
गर शब्द मिल रहे है, तो लफ्जों की कमी सी है आज!
जज्बातों का दरिया तो है सीने में पर.....
जज्बातों में एहसासों की कमी सी है आज!
मेरी खामोशी को पढ़ लेना तुम......
लबों पे हर बात रुकी सी है आज!
नज़रों की झुकन को समझ लेना तुम......
कि नैनो में अश्कों की कमी सी है आज!
मेरी चाहत को महसूस कर लेना तुम.....
दिल के दरिया में तूफानों की कमी सी है आज!
मेरे कदमो की आहट को पहचान लेना तुम.....
दुनिया के शोर में सन्नाटे की कमी सी है आज!
चारों और भीड़ से घिरी हुई हूँ मैं......
कि इस भीड़ में मेरी तन्हाई को महसूस कर लेना तुम आज!
लबों पे हंसी और आँखों में ख़ुशी भी है......
पर इस हंसी में आँखों की नमी को महसूस कर लेना तुम आज!
इजहारे मुहब्बत मुमकिन न होगा हमसे......
झुकी पलकों स हुए इकरार को समझ लेना तुम आज!
गर इस जनम में मिलना मुमकिन न हुआ तो.......
मुझे अपनी साँसों में महसूस कर लेना तुम आज!


19 comments:

Jashwant Singh Chaudhary said...

bahut khoob, kaafi achchhi poem hai .......lekin mujhe lagta hai ki agar
sher ke last me 'कमी-सी है आज' ki jagah agar 'si' hatakar 'कमी है आज' kar diya jaye to poem mein achchhi lay(pravaah) aa jayegi....vaise kuchh jam nahi raha......I hope, u'll not take my suggestion 'the other way' .

kamal said...

bhout khub likha hai ji

रश्मि प्रभा said...

दिल की गहराइयों को,खामोश जज्बातों को , सुनी आँखों की कशिश को इतने गहरे अर्थपूर्ण ढंग से लिखा है कि.......इसे तुम समझ लोगी

rama said...

khamosh nigaahe bhi baaten karti hain.
zazbon ko labon se bayaan karen ye zaruri nahi...
tanhayi me bhi khamoshi k raag gunjte hain...
jaise falak me baitha chaand tanhai jhle chandni k raag sunata hai.
--------------
bahut khub likha waaaah

sangeeta said...

कहना बहुत कुछ है, पर शब्दों की कमी सी है आज.....
taareef ke liye lafzon ki kami hai aaj...
नज़रों की झुकन को समझ लेना तुम......
कि नैनो में अश्कों की कमी सी है आज!
bahut khoob.ashkon ki kami nahi ye ashakon ko chhupane ki koshish hai aaj.
rani bahut khoobsurati se apane dil ke jazbaat likhe hain.
badhai.

Vijay Kumar Sappatti said...

kya baat hai rani ji ,

bahut umda likha hai aur bahut gahraiyon ke saath

bahut bahut badhai .

maine bhi kuch naya likha hai .

vijay

poemsofvijay.blogspot.com

NEER said...

bhut hi achi tarah se apne dil ki bat kahi hai ... dear..

apne dilil jajbat ko pesh kiya ...... aapne ....

ankho ki bhasha har koi nhi jnata............ jo ise samjh le....... wo hi sacha lover hai...

Gaurav Sharma said...

गर इस जनम में मिलना मुमकिन न हुआ तो.......
मुझे अपनी साँसों में महसूस कर लेना तुम आज!

kitna sahi hai!! bahut khoob!

--Gaurav

Rohit said...

its great n nice, really very very nice i feel very nice having read it. i think it is voice of ur heart. ye poem bahut kuchh kah gayi hai aaj.

ajitji said...

गर इस जनम में मिलना मुमकिन न हुआ तो.......
मुझे अपनी साँसों में महसूस कर लेना तुम आज!


bahut hi umda,, aur dil ko chu lene wali baat kahi hai aapne,,
sadhuwaad

EHSAAS said...

ehsaason ki lahren umadi hain,
fir bhee kinaron main thamee hain aaj!
padha gaya har harff salike,
ik shayar ki khamoshee aaj!!

@Rani ji pore prawaah k saath dil k ehsaas gaa diye aapne...adbhut. shama kijiye apne ehsaason ko ye EHSAAS aapke andaaj main bayaan kar gaya......badhayee iss rachna k liye!


...Ehsaas!

Rajak Haidar said...

चारों और भीड़ से घिरी हुई हूँ मैं......
कि इस भीड़ में मेरी तन्हाई को महसूस कर लेना तुम आज!
लबों पे हंसी और आँखों में ख़ुशी भी है......
पर इस हंसी में आँखों की नमी को महसूस कर लेना तुम आज!

दिल की गहराइयों से निकली कविता है..आपके जज्बातों को सलाम...बहुत खूब

sakhi with feelings said...

bhaut jajbati rachna lagi apki....acha laga

Baadal102 said...

bahut khoob bahut hi sunder likha hai aap ne.
har sabd apne aap mai kuch kehta hai.
bahut sunder

अनुपम अग्रवाल said...

लबों पे हंसी और आँखों में ख़ुशी भी है......
पर इस हंसी में आँखों की नमी को महसूस कर लेना तुम आज!
इजहारे मुहब्बत मुमकिन न होगा हमसे......
झुकी पलकों स हुए इकरार को समझ लेना तुम आज!

behtareen abhivyakti..

HEY PRABHU YEH TERA PATH said...

गर इस जनम में मिलना मुमकिन न हुआ तो.......
मुझे अपनी साँसों में महसूस कर लेना तुम आज!

****MIND BLOWING

bhootnath said...

naa jaane kyaa kamee see hai aaj.. aankhon men bhi nami see hai aaj...abhi dilo-dimaag kuch mahak se rahe hain.....koi taajaa tareen see rachnaa padhi hai aaj.....!!

"Apoorv" said...

Bahut Khoob...

Bahut achchha socha hai..
bhavnaaye sachchi hai.

Achchha laga padhkar..

hope said...

see hai aaj......................
NAMAN-VANDAN AUR ANANT ABHINANDAN.....
comment likhpaana bemani lagti hai aaj.....................